सेंसेक्स-निफ़्टी पर रूसी सेना के बेस पर लौटने का दिखा असर, पॉजिटिव नोट पर खुले

BSE सेंसेक्स बुधवार को थोड़ी तेजी के साथ 58,310 अंक पर खुला। वहीं Nifty 50 भी थोड़ा ऊपर 17,408 अंक पर खुला। जानकारों के अनुसार रूस और यूक्रेन के बीच बढ़ते तनाव को लेकर निवेशक सावधान हैं।

सेंसेक्स-निफ़्टी पर रूसी सेना के बेस पर लौटने का दिखा असर, पॉजिटिव नोट पर खुले

NBC24 DESK: BSE सेंसेक्स बुधवार को थोड़ी तेजी के साथ 58,310 अंक पर खुला। वहीं Nifty 50 भी थोड़ा ऊपर 17,408 अंक पर खुला। जानकारों के अनुसार रूस और यूक्रेन के बीच बढ़ते तनाव को लेकर निवेशक सावधान हैं। हालांकि बाजार पॉजिटिव नोट पर खुला है और यह तेजी बनी रह सकती है। बता दें कि मंगलवार को निवेशकों ने निचले स्तर पर जमकर लिवाली की थी, जिससे दोनों सूचकांक ने बीते सत्रों के नुकसान की भरपाई कर ली। बीएसई सेंसेक्स 1,736.21 अंक बढ़त के साथ 58,142.05 अंक पर बंद हुआ था। यह एक फरवरी, 2021 के बाद एक दिन में हुई सर्वाधिक बढ़त है।

इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 509.65 अंक यानी 3.03 प्रतिशत की तेज़ी के साथ 17,352 अंक पर पहुंचकर बंद हुआ।जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा कि उम्मीद है कि रूस और यूक्रेन के बीच तनाव कम हो रहा है। इससे ग्‍लोबल मार्केट में स्मार्ट रिकवरी हो रही है। कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट के कारण घरेलू बाजार सुधर रहे हैं। हालांकि, जनवरी में खुदरा मुद्रास्फीति का रिजर्व बैंक के संतोषजनक स्तर से अधिक रहना आने वाले समय में घरेलू बाजार के लिए चिंता का सबब बन सकता है। खुदरा मुद्रास्फीति पिछले सात महीनों में पहली बार छह प्रतिशत से अधिक होकर जनवरी में 6.01 फीसदी पर पहुंच गई।

रेलिगेयर ब्रोकिंग लिमिटेड के उपाध्यक्ष (शोध) अजित मिश्रा ने कहा कि बाजारों में लगातार उठापटक का दौर देखा जा रहा है और निकट भविष्य में भी यह सिलसिला जारी रह सकता है। किसी प्रमुख घरेलू घटनाक्रम के अभाव में रूस-यूक्रेन तनाव से जुड़ी गतिविधियों और वैश्विक बाजारों पर उसके असर पर नजरें टिकी रहेंगी।विश्‍लेषकों के मुताबिक रूस की कुछ सैन्य टुकड़ियों के अपने अड्डे पर वापस लौटने की खबरों ने भी यूरोप में अशांति फैलने की आशंका को थोड़ा कम किया है और इससे यूरोपीय बाजारों में सुधार भी देखा गया।