रजत पदक जीत नीरज चोपड़ा ने एक बार फिर से रचा इतिहास।

वर्ल्ड एथलिटिक्स चैंपियनशिप में भाला फेंक प्रतियोगिता में रजत पदक जीत नीरज चोपड़ा ने इतिहास रच दिया। इस स्पर्धा में पदक जीतने वाले पहले भारतीय बने, 88.13 मीटर के सर्वश्रेष्ठ थ्रो के साथ रजत पदक अपने नाम किया।

रजत पदक जीत नीरज चोपड़ा ने एक बार फिर से रचा इतिहास।

वर्ल्ड एथलिटिक्स चैंपियनशिप में भाला फेंक प्रतियोगिता में रजत पदक जीत  नीरज चोपड़ा ने इतिहास रच दिया। इस स्पर्धा में पदक जीतने वाले पहले भारतीय बने, 88.13 मीटर के सर्वश्रेष्ठ थ्रो के साथ रजत पदक अपने नाम किया।

19 वर्षों के बाद भारत को वर्ल्ड एथलिटिक्स चैंपियनशिप में मेडल मिला है।

आपको बता दें कि इससे पहले अंजू बॉबी जॉर्ज एकमात्र भारतीय थी, जिन्होंने वर्ल्ड एथलिटिक्स चैंपियनशिप में 2003 में कांस्य पदक जीता था। उन्होंने लॉन्ग जंप में यह मेडल जीता था।

नीरज चोपड़ा का पहला अटेम्प्ट फाउल रहा, जबकि दूसरे अटेम्प्ट में उनहोंने 82.39 मीटर का थ्रो किया। यह उनके सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन से काफी दूर था। दूसरी ओर, ग्रेनाडा के एंडरसन पीटर्स ने पहले ही अटेम्प्ट में 90 मीटर को पार कर लिया। उन्होंने लगातार 3 अटेम्प्ट में 90.46, 90.21 और 90.46 मीटर का थ्रो करते हुए अपना मेडल लगभग पक्का कर लिया था।

नीरज ने तीसरे अटेम्प्ट में अपने प्रदर्शन में सुधार किया। उन्होंने 86.37 मीटर का थ्रो करते हुए चौथे नंबर पर पहुंच गए। भारतीय स्टार ने चौथे राउंड में 88.13 मीटर का थ्रो करते हुए दूसरा नंबर पा लिया। नीरज का यह ओलिंपिक से भी बेहतर प्रदर्शन था। उन्होंने ओलिंपिक में 87.58 मीटर का जैवलिन थ्रो करते हए गोल्ड मेडल जीता था। अब चेक रिपब्लिक के जेकुब वाद्लेज तीसरे नंबर पर पहुंच गए थे। छठे राउंड में वह फाउल कर गए।