बिहार लोक सेवा आयोग पेपर लीक मामले के मुख्य आरोपी डीएसपी रंजीत कुमार रजक के चार ठिकाने पर इओयू द्वारा हुई छापेमारी....

बिहार में भ्रष्टाचार, घूसखोरी जैसे तमाम घटनाओं पर जमकर कारवाई की जा रही हैं। इस कड़ी में बिहार इओयू के एडीजी नैय्यर हसनैन खां के निर्देश पर लगातार कार्रवाई जारी हैं । और बीपीएससी पेपर लीक मामले के मुख्य आरोपी डीएसपी रंजीत कुमार रजक के चार ठिकाने पर इओयू की टीम ने आज यानी शनिवार के सुबह से ही छापेमारी कर रही हैं।

बिहार लोक सेवा आयोग पेपर लीक मामले के मुख्य आरोपी डीएसपी रंजीत कुमार रजक के चार ठिकाने पर इओयू द्वारा हुई छापेमारी....

पटना : इस दिनों बिहार में भ्रष्टाचार, घूसखोरी जैसे तमाम घटनाओं पर जमकर कारवाई की जा रही हैं। इस कड़ी में बिहार इओयू के एडीजी नैय्यर हसनैन खां के निर्देश पर लगातार कार्रवाई जारी हैं । और बीपीएससी पेपर लीक मामले के मुख्य आरोपी डीएसपी रंजीत कुमार रजक के चार ठिकाने पर इओयू की टीम ने आज यानी शनिवार के सुबह से ही छापेमारी कर रही हैं। वही दो दिन पहले ही सरकार ने डीएसपी रंजीत कुमार रजक को निलंबित कर दिया हैं।

    बता दें कि, रंजीत कुमार रजक के विरुद्ध इओयू ने बीते 5 अगस्त को आय से अधिक सम्पत्ति को लेकर कांड संख्या 30/22 दर्ज किया था । और कोर्ट से सर्च वारंट मिलते ही इओयू की टीम ने बिहार लोक सेवा आयोग परीक्षा में पेपर लीक मामले के आरोपी डीएसपी रंजीत कुमार रजक के चार ठिकाने ,पटना के रूपसपुर स्थित नीति बाग, वीणा कालोनी के किराए का आवास ,कटिहार जिले के मनिहारी स्थित पैतृक ग्राम हंसवर, हंसवर स्थित हैप्पी पेट्रोल पंप, अररिया जिले के महादेव चौक स्थित ससुराल में एक साथ छापेमारी की। इओयू द्वारा की गई इस रेड में करोड़ों के निवेश संबंधित कागजात मिले हैं । जो प्राथमिक जांच में इनके आय से  81.9 प्रतिशत ज्यादा हैं।

इसके अलावा पेपर लीक मामले में इओयू ने अब तक 17 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। और 8 लोग  खिलाफ चार्जशीट दाखिल किया गया हैं।